Ghazals

हम उन्हें वो हमें भुला बैठे

  हम उन्हें वो हमें भुला बैठे, दो गुनहगार ज़हर खा बैठे, हाल-ऐ-ग़म कह-कह के ग़म बढ़ा बैठे, तीर मारे थे तीर खा बैठे, आंधियो जाओ अब आराम करो, हम [Read More…]

  • 2
    Shares
Bewafa Shayri

दिल की क्या बिसात थी

दिल की क्या बिसात थी निगाह-ए-जमाल में, इक आइना था टूट गया देख-भाल में। ********************************** Dil Ki Kya Bisaat Thi Nigaah-e-Jamaal Mein, Ek Aayina Tha Toot Gaya Dekh-Bhaal Mein.