बंद मुट्ठी से याद गिरती है रेत की मानिंद

If you like this stuff, Please Share it on

alone shayri in hindi

 

बंद मुट्ठी से याद गिरती है रेत की मानिंद,
वो चला गया ज़िन्दगी से ज़र्रा-ज़र्रा कर के।

*********************************

Band Mutthhi Se Yaad Girti Hai Ret Ki Maanind,
Woh Chala Gaya Zindagi Se Zarra-Zarra Karke.


If you like this stuff, Please Share it on

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*