Bewafa Shayri

दिल की क्या बिसात थी

दिल की क्या बिसात थी निगाह-ए-जमाल में, इक आइना था टूट गया देख-भाल में। ********************************** Dil Ki Kya Bisaat Thi Nigaah-e-Jamaal Mein, Ek Aayina Tha Toot Gaya Dekh-Bhaal Mein. 17Shares

  • 17
    Shares
Bewafa Shayri

किसको पराया समझें

दिल जो टूटा तो कई हाथ दुआ को उठे, ऐसे माहौल में अब किसको पराया समझें। *********************************** Dil Jo Toota Toh Kayi Haath Duaa Ko Uthhe, Aise Mahaul Mein Ab [Read More…]

  • 17
    Shares