Ghazals

हम तो बचपन में भी अकेले थे

  हम तो बचपन में भी अकेले थे, सिर्फ दिल की गली में खेले थे, एक तरफ मोर्चे थे पलकों के, एक तरफ आँसूओं के रेले थे, थीं सजी हसरतें [Read More…]

  • 18
    Shares
Ghazals

जिधर जाते हैं सब जाना, उधर अच्छा नहीं लगता

  जिधर जाते हैं सब जाना, उधर अच्छा नहीं लगता, मुझे पामाल* रस्तों का सफ़र अच्छा नहीं लगता, ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना, हामी भर लेना, बहुत हैं फ़ायदे [Read More…]

  • 18
    Shares
Bashir Badr Ghazals

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जायेगा

  अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जायेगा, मगर तुम्हारी तरह कौन मुझे चाहेगा, तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा, मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लायेगा, ना जाने कब [Read More…]

  • 18
    Shares