Bewafa Shayri

दिल की क्या बिसात थी

दिल की क्या बिसात थी निगाह-ए-जमाल में, इक आइना था टूट गया देख-भाल में। ********************************** Dil Ki Kya Bisaat Thi Nigaah-e-Jamaal Mein, Ek Aayina Tha Toot Gaya Dekh-Bhaal Mein. 2Shares

  • 2
    Shares
Bewafa Shayri

किसको पराया समझें

दिल जो टूटा तो कई हाथ दुआ को उठे, ऐसे माहौल में अब किसको पराया समझें। *********************************** Dil Jo Toota Toh Kayi Haath Duaa Ko Uthhe, Aise Mahaul Mein Ab [Read More…]

  • 2
    Shares
Bewafa Shayri

लेकिन दिल बोला

    हमने सोच के तड़फना छोड़ देंगे, उनके लिए यूं तरसना छोड़ देंगे, दिल को कहा भूल जा तू उसे, लेकिन दिल बोला ऐसा दोबारा कहोगे तो धड़कना छोड़ [Read More…]

  • 2
    Shares