इक पल में इक सदी का मज़ा हम से पूछिए

If you like this stuff, Please Share it on
  • 3
    Shares

khumar barabankvi gazals in hindi

 

इक पल में इक सदी का मज़ा हम से पूछिए,
दो दिन की ज़िंदगी का मज़ा हम से पूछिए,

की भूले हैं रफ्ता रफ्ता उन्हें मुदत्तों  में हम,
किस्तों में ख़ुदकुशी का मज़ा हम से पूछिए,

आगाज़-ए -आशिक़ी का मज़ा आप जानिये,
अंज़ाम-ए-आशिक़ी का मज़ा हम से पूछिए,

जलते दीयों में जलते घरों जैसी जौ  कहाँ,
सरकार रौशनी का मज़ा हम से पूछिए,

वो जान ही गए की हमें उनसे प्यार है,
आँखों की मुखबिरी का मज़ा हम से पूछिए,

की हसने का शौक़ हमको ही था आप की तरह,
हंसिये मगर हसी का मज़ा हम से पूछिए,

हम तौबा कर के मर गए बेमौत-ए-‘खुमार’,
तौहीन-ए-मैकशी का मज़ा हम से पूछिए !!

***************************************

Ek pal mein ek sadi ka maza hum se puchiye,
Do din ki zindagi ka maza hum se puchiye,

Bhule hain unhen rafta rafta mudatton mein hum,
Kiston mein khudkushi ka maza hum se puchiye,

Aagaz-e-ashiqi ka maza aap janiye,
Anjam-e-ashiqi ka maza hum se puchiye,

Jalate diyon mein jalate gharon jaise zau kahan,
Sarakar raushni ka maza hum se puchiye,

Wo jan hi gaye ki hamen un se pyar hai,
Aankhon ki mukhbari ka maza hum se puchiye,

Hansane ka shauq hum ko bhi tha aap ki tarah,
Hansiye magar hansi ka maza hum se puchiye,

Hum tauba kar ke mar gaye bemaut ae ‘khumar’,
Tauhin-e-maikashi ka maza hum se puchiye !!

                                                                                                                         -खुमार बाराबंकवी


If you like this stuff, Please Share it on
  • 3
    Shares
  • 3
    Shares

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*