हम उन्हें वो हमें भुला बैठे

If you like this stuff, Please Share it on

khumar barabankvi gazals in hindi

 

हम उन्हें वो हमें भुला बैठे,
दो गुनहगार ज़हर खा बैठे,

हाल-ऐ-ग़म कह-कह के ग़म बढ़ा बैठे,
तीर मारे थे तीर खा बैठे,

आंधियो जाओ अब आराम करो,
हम ख़ुद अपना दिया बुझा बैठे,

जी तो हल्का हुआ मगर यारो,
रो के हम लुत्फ़-ऐ-गम बढ़ा बैठे,

बेसहारों का हौसला ही क्या,
घर में घबराए दर पे आ बैठे,

जब से बिछड़े वो मुस्कुराए न हम,
सब ने छेड़ा तो लब हिला बैठे,

हम रहे मुब्तला-ऐ-दैर-ओ-हरम,
वो दबे पाँव दिल में आ बैठे,

उठ के इक बेवफ़ा ने दे दी जान,
रह गए सारे बावफ़ा बैठे,

हश्र का दिन है अभी दूर ‘ख़ुमार’,
आप क्यों जाहिदों में जा बैठे !!

***********************

Hum unhen wo hume bhula baithe,
Do gunhagaar zahar kha baithe,

Haal-E-Gum Kah-Kah ke gum badha baithe,
Teer maare the teer kha baithe,

Aandihyo’n jaao ab aaram karo,
Hum khud apna diya bhujha baithe,

Jee to halka hua magar yaaro,
Ro ke hum Ltf-E-Gum badha baithe,

Jab se bichhade wo muskurae na hum,
Sab ne chheda to lab hila baithe,

Hum rahe Mubtala-Ae-Dair-O-Haram,
Wo dabe paanv dil me aa baithe,

Uth ke ik bewafa ne de di jaan,
Rah gaye saare bawafa baithe,

Harsh ka din hai abhi dur ‘Khumar’,
Aap kyo’n zaahido’n me jaa baithe !!

 -खुमार बाराबंकवी


If you like this stuff, Please Share it on

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*