जिधर जाते हैं सब जाना, उधर अच्छा नहीं लगता

If you like this stuff, Please Share it on

javed akhtar gazal in hindi

 

जिधर जाते हैं सब जाना, उधर अच्छा नहीं लगता,
मुझे पामाल* रस्तों का सफ़र अच्छा नहीं लगता,

ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना, हामी भर लेना,
बहुत हैं फ़ायदे इसमें मगर अच्छा नहीं लगता,

मुझे दुश्मन से भी ख़ुद्दारी की उम्मीद रहती है,
किसी का भी हो सर, क़दमों में सर अच्छा नहीं लगता,

बुलंदी पर इन्हें मिट्टी की ख़ुशबू तक  नहीं आती,
ये वो शाखें हैं जिनको अब शजर* अच्छा नहीं लगता,

ये क्यूँ बाक़ी रहे आतिश-ज़नों*, ये भी जला डालो,
कि सब बेघर हों और मेरा हो घर, अच्छा नहीं लगता !!

***********************************************

Jidhar jaate hai sab jaana, achcha nahin lagta,
Mujhe paamaal raston ka safar achcha nahin lagta,

Galat baton ko khomoshi se sunna haami bhar lena,
Bahut hain faayde ismen magar achcha nahin lagta,

Mujhe dishman se bhi khuddaari ki ummeed rahati hain,
Kisi ka bhi ho sar, kadmon mein sar achcha nahin lagta,

Bulandi par inhe mitti ki khushbu tak nahin aati,
Ye wo shaakhe hai jinko ab sazar achcha nahin lagta,

Ye kyun baaki rahe aatish-janon, ye bhi jala daalo,
Ki sab beghar ho aur mera ho ghar, achcha nahin lagta !!

– जावेद अख्तर


If you like this stuff, Please Share it on

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*