लोग टूट जाते हैं, एक घर बनाने में

If you like this stuff, Please Share it on

 

लोग टूट जाते हैं, एक घर बनाने में,
तुम तरस नहीं खाते, बस्तियाँ जलाने में,

और जाम टूटेंगे, इस शराबख़ाने में,
मौसमों के आने में, मौसमों के जाने में,

हर धड़कते पत्थर को, लोग दिल समझते हैं,
उम्र बीत जाती है, दिल को दिल बनाने में,

फ़ाख़्ता की मजबूरी ,ये भी कह नहीं सकती,
कौन साँप रखता है, उसके आशियाने में,

दूसरी कोई लड़की, ज़िंदगी में आएगी,
कितनी देर लगती है, उसको भूल जाने में !!

**********************************************

Log toot jate hain, ek ghar banane mein,

Log toot jaate hain, ek ghar banaane mein,
Tum taras nahin khate, bastiyaan jalaane mein,

Aur jaam tootenge, is sharaabkhaane mein,
Mausmon ke aane mein, mausmon ke jane mein,

Har dharhkate patthar ko, log dil samajhte hain,
Umar beet jaati hain, dil ko dil banaane mein,

Fakhtaa ki majboori, ye bhi kah nahin sakti,
kaun saanp rakhta hain, uske aashiyane mein,

Doosri koi ladki, zindgi mein aayegi,
kitni der lagti hain, usko bhool jane mein !!

 


If you like this stuff, Please Share it on

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*