मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला

If you like this stuff, Please Share it on

बशीर बद्र गज़ल हिंदी में

 

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला,
अगर गले नहीं मिलता, तो हाथ भी न मिला,

घरों पे नाम थे, नामों के साथ ओहदे थे,
बहुत तलाश किया, कोई आदमी न मिला,

तमाम रिश्तों को मैं, घर में छोड़ आया था,
फिर इसके बाद मुझे, कोई अजनबी न मिला,

ख़ुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने,
बस एक शख़्स को मांगा, मुझे वही न मिला,

बहुत अजीब है ये कुरबतों की दूरी भी,
वो मेरे साथ रहा, और मुझे कभी न मिला !!

************************************

Mohabbaton mein dikhawe ki dosti na mila,
Agar gale nahin milta to haath bhi na mila,

Gharon pe naam they, naamon key saath ohde the,
Bahut talaash kiya koi aadmi na mila,

Tamaam rishton ko main ghar pe chhod aaya tha,
Phir uske baad mujhe koi ajnabi na mila,

Khuda ki itni badi kaaynat mein maine,
Bas eik shakhs ko manga mujhe wohi na mila,

Bahut ajeeb hai ye qurbaton ki doori bhi,
Wo mere saath raha aur mujhe kabhi na mila !!

– बशीर बद्र


If you like this stuff, Please Share it on

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*