सच ये है बेकार हमें गम होता है

If you like this stuff, Please Share it on

javed akhtar gazal in hindi

 

सच ये है बेकार हमें गम होता है,
जो चाहा था दुनिया में कम होता है,

ढलता सूरज फैला जंगल रस्ता गुम,
हमसे पूछो कैसा आलम होता है,

गैरों को कब फुरसत है दुख देने की,
जब होता है कोई हम-दम होता है,

जख्म तो हम ने इन आँखों से देखे हैं,
लोगों से सुनते हैं मरहम होता है,

ज़हन की शाखों पर अशार आ जाते हैं,
जब तेरी यादों का मौसम होता है !!

***************************

Sach ye hai bekaar hamen gham hota hai,
Jo chaaha tha duniya mein kam hota hai,

Dalta sooraj faila jungal rasta gum,
Humse poochho kaisa aalam hota hai,

Gairon ko kab fursat hai dukh dene ki,
Jab hota hai koi hum-dum hota hai,

Zakhm to hum ne in aankhon se dekhe hai,
Logon se sunte hai marham hota hai,

Zahan ki shaakhon par ashaar aa jate hai,
Jab teri yaadon ka mausam hota hai !!

 


If you like this stuff, Please Share it on

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*