ये तसल्ली है कि हैं नाशाद सब

If you like this stuff, Please Share it on

javed akhtar gazal in hindi

 

ये तसल्ली है कि हैं नाशाद सब,
मैं अकेला ही नहीं बर्बाद सब,

सब की खातिर है यहाँ सब अजनबी
और कहने को हैं घर आबाद सब,

भूल के सब रंजिशें सब एक हैं,
मैं बताऊँ सब को होगा याद सब,

सब को दावा-ए-वफा सब को यकीं,
इस अदकारी में हैं उस्ताद सब,

शहर के हाकिम का ये फरमान है,
कैद में कहलायेंगे आजाद सब,

चार लफ्जों में कहो जो भी कहो,
उसको कब फ़ुरसत सुने फरियाद सब,

तल्ख़ियाँ कैसे न हो अशार में,
हम पे जो गुज़री है हम को याद सब !!

***********************************

Ye tasalli hai ki hain nashad sab,
Main akela hi nahi barabad sab,

Sab ki khatir hai yahan sab ajanabi,
Aur kahane ko hain ghar aabad sab,

Bhool ke sab ranjishen sab ek hain,
Main bataun sab ko hoga yaad sab,

Sab ko dava-e-vafa sab ko yaqin,
Is adakari mein hain ustad sab,

Shahar ke hakim ka ye faraman hai,
Qaid mein kahalayenge aazad sab,

Char lafzon mein kaho jo bhi kaho,
Us ko kab furasat sune fariyad sab,

Talkhiyan kaise na ho ashar mein,
Hum pe jo guzri hai hum ko yaad sab !!

 


If you like this stuff, Please Share it on

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*