यूं ही बेसबब न फिरा करो, कोई शाम घर भी रहा करो

If you like this stuff, Please Share it on

bashir badr gazal in hindi

 

यूं ही बेसबब न फिरा करो, कोई शाम घर भी रहा करो,
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है, उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो,

कोई हाथ भी न मिलाएगा, जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिज़ाज का शहर है, ज़रा फ़ासले से मिला करो,

अभी राह में कई मोड़ हैं, कोई आएगा, कोई जाएगा,
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया, उसे भूलने की दुआ करो,

मुझे इश्तिहार-सी लगती हैं, ये मोहब्बतों की कहानियां,
जो कहा नहीं, वो सुना करो, जो सुना नहीं, वो कहा करो,

कभी हुस्न-ए-पर्दानशीं भी हो जरा, आशिकाना लिबास में,

जो मैं बन संवर के कहीं चलू, मेरे साथ तुम भी चला करो,

ये ख़िज़ां की ज़र्द-सी शाल में, जो उदास पेड़ के पास है,
ये तुम्हारे घर की बहार है, इसे आंसुओं से हरा करो !!

**************************************************************

Yun Hi Besabab Na Phira Karo, Koi Shaam Ghar Bhi Raha Karo,
Wo Gazal Ki Sachchi Kitaab Hai, Use Chupke Chupke Padha Karo,

Koi Haath Bhi Na Milaayega Jo Gale Miloge Tapaak Se,
Ye Naye Mizaaj Ka Shehar Hai, Jara Faasle Se Mila Karo,

Abhi Raah Mein Kayi Mod Hain, Koi Aayega Koi Jayega,
Tumhen Jis Ne Dil Se Bhula Diya, Use Bhoolne Ki Dua Karo,

Mujhe Ishtihaar Si Lagti Hain Ye Mohabbaton Ki Kahaaniyan,
Jo Kaha Nahin Wo Suna Karo, Jo Suna Nahin Wo Kaha Karo,

Kabhi Husn-e-Pardanashin Bhi Ho Jara Aashikaana Libaas Mein,
Jo Main Ban Sanwar Ke Kahin Chaloon, Mere Saath Tum Bhi Chala Karo,

Ye Khizaa Ki Zard Si Shaal Mein, Jo Udaas Ped Ke Paas Hai,
Ye Tumhare Ghar Ki Bahaar Hai, Ise Aansuon Se Hara Karo !!

 

– बशीर बद्र


If you like this stuff, Please Share it on

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*