कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है !!

If you like this stuff, Please Share it on
  • 45
    Shares

Kumar vishwas gazals in hindi

 

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है,
मगर धरती की बेचैनी को, बस बादल समझता है,
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ, तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है,

मोहब्बत एक अहसासों की, पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था, कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है,

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता,
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता,
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले,
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता,

भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा,
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा,
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का,
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा,

–  कुमार विश्वास

*************************************

Koi deewana kahta hai, koi paagal samjhta hai !!

Koi deewana kahta hai, koi paagal samjhta hai,
Magar dharti ki bechaini ko, bas baadal samjhta hai,
Main tujhse door kaisa hoon, tu mujhse dur kaisi hai,
Ye tera dil samjhta hai, ya mera dil samjhta hai,

Mohabbat ek ehsaason ki, paawan si kahani hai,
Kabhi Kabira deewana tha, kabhi Meera deewani hai,
Yaha sab log kahate hai, meri aankho.n mein aansu hain,
Jo tu samjhe to moti hai, jo na samjhe to paani hai,

Samandar peer ka andar hai, lekin ro nahi sakta,
Yah aansu pyar ka moti hai, isko kho nahi sakta,
Meri chaahat ko dulhan tu bana lena, magar sun le,
Jo mera ho nahi paaya, wo tera ho nahi sakta,

Bhramar koi kumuduni par machal baitha to hungama,
Hamaare dil mein koi khwaab pal baitha to hungama,
Abhi tak doob kar sunte the sab kissa mohabbat ka,
Main kisse ko haqiqat mein badal baitha to hangama,

–  Kumar Vishwas


If you like this stuff, Please Share it on
  • 45
    Shares
  • 45
    Shares

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*