वो कागज की कश्ती, वो बारिश का पानी

If you like this stuff, Please Share it on
  • 9
    Shares

sudarshan faakir gazals in hindi set -1

वो कागज की कश्ती, वो बारिश का पानी

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी
मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी

मुहल्ले की सबसे निशानी पुरानी
वो बुढ़िया जिसे बच्चे कहते थे नानी
वो नानी की बातों में परियों का डेरा
वो चेहरे की झुरिर्यों में सदियों का फेरा
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई
वो छोटी सी रातें वो लम्बी कहानी

कड़ी धूप में अपने घर से निकलना
वो चिड़िया वो बुलबुल वो तितली पकड़ना
वो गुड़िया की शादी में लड़ना झगड़ना
वो झूलों से गिरना वो गिर के सम्भलना
वो पीतल के छल्लों के प्यारे से तोहफ़े
वो टूटी हुई चूड़ियों की निशानी

कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना
घरौंदे बनाना बनाके मिटाना
वो मासूम चहत की तस्वीर अपनी
वो ख़्वाबों खिलौनों की जागीर अपनी
न दुनिया का ग़म था न रिश्तों के बंधन
बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िंदगानी !!

—————————————–

Wo kaagaz ki kashti wo baarish ka paani

Ye daulat bhi le lo, ye shohrat bhi le lo
Bhale cheen lo mujhse meri jawani
Magar mujhko lauta do bachpan ka saawan
Wo kaagaz ki kashti wo baarish ka paani

Muhalle ki sab se purani nishani
Wo budiya jise bachche kehte the naani
Wo naani ki baaton mein pariyaon ka dera
Wo chehre ki jhuriyon mein sadiyon ka phera
Bhulaye nahi bhool sakta hai koi
Wo chhoti si raatein wo lambi kahani

Kadi dhoop mein apne ghar se nikalna
Wo chidiya wo bulbul wo titli pakadna
Wo gudiya ki shaadi mein ladna-jhagadna
Wo jhoolon se girna wo girke sambhalna
Wo peepal ke chhalon ke pyare se tohfe
Wo tuti hui churiyon ki nishani

Kabhi ret ke unche teelon pe jaana
Gharonde banana banakar mitana
Wo masoom chahat ki tasveer apni
Wo khabon khilon ki jaagir apni
Na duniya ka gham tha na rishton ke bandhan
Badi khoobsurat thi wo zindgani !!

 


If you like this stuff, Please Share it on
  • 9
    Shares
  • 9
    Shares

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*